Environment day 2020 | Healthy ways to celebrate at home

Environment day 2020 | Healthy ways to celebrate at home
Environment day earth protection

प्रकृति के नजदीक जाने के लिए प्रकृति को ख़ुद के क़रीब लेकर आइए। उन जरियों को तलाशिए जिनसे प्रकृति का अहसास मिले और सेहत भी।   घर के पर्यावरण की भी फ़िक्र कीजिए। घर में औषधीय पौधे लगाइए। फिर देखिए आज लगाए गए पौधे, कल कैसे हमारे मुहाफ़िज़ बन जाते हैं।

Environment day quotes


पृथ्वीवासी, खासतौर पर हम भारतवासी बहुत नसीब वाले हैं कि हमारे पास आयुर्वेद का ज्ञान है और वह बहुमूल्य प्राकृतिक निधि भी जो हमें प्रकृति का सुख ही नहीं, आरोग्य भी देती है। हमारे पास कई औषधीय पौधों की प्रजातियां हैं, जो प्राथमिक स्वास्थ्य की देखभाल में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती रही हैं इन पौधों को लगाएं और इनके औषधि गुणों का लाभ उठाएं। घर में खुले स्थान, छत या बालकनी में उपयोगी बागीचा लगा दें, तो पूरा घर तरोताजा हवा और प्राकृतिक सौंदर्य से सराबोर रहेगा। 

मसाले, जड़ी बूटी, सुगंधित पौधे और बहुपयोगी पौधे लगाइए। सर्दी-जुकाम, गले की खराश, वायरस संक्रमण, सिर दर्द, हल्का बुखार, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और कमजोरी जैसी समस्याओं के लिए ये पौधे प्राकृतिक रामबाण हैं हरियाली लाएंगे, सो अलग।

List of plants to be planted at home:

 इन्हें कैसे लगाना है और फ़ायदा लेना है, इन्हें भी जान लेते हैं…

1. ब्राह्मी

brahmi-waterhyssop environment day
brahmi-waterhyssop

यह पौधा भूमि पर फैलकर बड़ा होता है, यह आसानी से कैसी भी मिट्टी में लग जाता है।
कैसे सेवन करेंइसकी 4-5 पत्तियों को सुबह खाली पेट चबाकर, पानी पिएं। रस निकालकर भी सेवन कर सकते हैं। यह शीतल होती है, सो सर्द मौसम में पत्तियों के सत को काली मिर्च के साथ लेना ठीक होगा।
लाभ – ब्राह्मी मस्तिष्क को शीतलता प्रदान करती है। बच्चों में एकाग्रता की कमी और बड़ी उम्र में भूलने की बीमारी में इसकी पत्तियों का सेवन करने से लाभ होता है। Read more..

2. गिलोय

giloy-tinospora-cordifolia environment day plant
Giloy Tinospora cordifolia


गिलोय बेल है,जो कटिंग से हर तरह की मिट्टी में लग जाती है। 
कैसे सेवन करे – गिलोय बेल की डालियां कूटकर पानी में उबालकर पी सकते हैं। जिन्हें मधुमेह न हो, वे इसमें थोड़ा शहद डालकर भी पी सकते हैं।
लाभ- गिलोय में रोग प्रतिरोधक क्षमता दुरुस्त रखने वाली अहम औषधि है। बार-बार जुकाम के पीड़ियों के लिए खास फ़ायदेमंद है। श्वास के रोग, अर्थराइटिस, डेंगू या चिकनगुनिया, मधुमेह में ख़ास लाभ मिलता है। Read more

3. कालमेघ

Kalmegha andrographis peniculata. Environment day ThehealthyAyurveda
kalmegha – andrographis peniculata

यह एक बहुवर्षीय पौधा है,जो आसानी से बीज या कटिंग से गमले या क्यारी में लग जाता है।
कैसे सेवन करें• बुखार और खराश होने पर इसकी पत्तियों की चाय या जूस बनाकर पी सकते हैं। किंतु ध्यान रहे कि यह नीम से सौ गुना अधिक कड़वा होता है, इसलिए इसे ‘किंग ऑफ बिटर’ के नाम से भी जानते हैं।
लाभ -संक्रमण रोधी, जीवाणुरोधी, कैंसर विरोधी, सूजनरोधी (anti inflammatory), मधुमेह रोधी, anti carcinogenic आदि गुणों से भरपूर है इसीलिए इस को कोविड-19 संक्रमण से लड़ने में सहायक कहा जा रहा है और दवाइयों में इसके प्रयोग भी किए जा रहे हैं। यह हैजा, दमा, ज्वर, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, खांसी, गले में छाले, अतिसार, पाइल्स और भगन्दर इत्यादि रोगों के निवारण में लाभकारी है।

4. Lemon Grass  

lemongrass-on-a-wooden-background environment day
Lemongrass health benefits

यह नींबू घास के नाम से भी जानी जाती है। इसे स्लिप द्वारा छोटे गमले या क्यारी में लगा सकते हैं। 
कैसे सेवन करेंपत्तियां लेमन टी बनाने में उपयोग कर सकते हैं। गर्म पानी में अजवाइन के बीज और कुछ पत्तियां डालकर उबाल लें। इसे दो मिनट तक रखें और फिर हल्दी डालकर अच्छी तरह से हिलाकर पिएं।
लाभ इसमें antioxidants  और जीवाणुरोधी गुण पाए जाते हैं जो कई प्रकार के संक्रमण से बचाव करते हैं। इस घास में विटामिन-ए और सी, फोलेट, फोलिक एसिड, मैग्नीशियम, जिंक, कॉपर, आयरन, पोटैशियम, फॉस्फोरस, कैल्शियम और मैगनीज होते हैं। It has surplus medicinal benefits and also is an effective insect repellent. 

5. पिप्पली

long-pepper-pipli-dipli-piper-longum-leaf-


पिप्पली का पौधा कटिंग या बीज रोपित करके लगा सकते हैं।
कैसे सेवन करें पिप्पली के फल या उसकी जड़ के सेवन से लाभ लिए जाते हैं। पिप्पली को लॉन्ग पेपर भी कहते हैं। इसमें लम्बे फल लगते हैं, जिनका चूर्ण बनाकर सेवन किया जाता है। उसी तरह जड़ को सुखाकर भी।
लाभ यह दिल के रोगों में फायदेमंद है। इसके फल के एक ग्राम चूर्ण को शहद के साथ खाली पेट नियमित रूप से लेने पर दिल के रोगों में राहत मिलती है। इसी तरह पेट के रोगों के लिए भी यह चूर्ण लाभदायक है।

6. अश्वगंधा

Ashwagandha environment day


इसका पौधा बीज द्वारा गमले या क्यारी में लगाया जाता है।
कैसे सेवन करें इसकी जड़ों का पाउडर खांसी और अस्थमा से राहत दिलाने में उपयोगी है। पत्तियों की चाय बनाकर पी सकते हैं। दूध में एक चम्मच अश्वगंधा की जड़ का पाउडर मिलाकर पीने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।
लाभ अश्वगंधा से हमारे शरीर को शक्ति मिलती है। इसके पत्तों के नियमित सेवन और प्राणायाम की मदद से मोटापा कम किया जा सकता है।The plant boosts the brain function, lowers blood sugar levels, help fight symptoms of anxiety and depression and reduce cortisol. It has ability to give relieve and enhances stamina. The powerful herb can be used to balance thyroid hormone.

7. वन तुलसी

Van tulsi  Ocimum_gratissimum_
Ocimum_gratissimum_


इसको बीज या कलम से बड़े गमले में लगा सकते हैं लेकिन क्यारी में बेहतर उगती है।
कैसे सेवन करें इसकी पत्तियों से मसाला चाय बना सकते हैं। चाय बनाते वक्त इसकी कुछ पत्तियां साथ में डालने से चाय भी कड़क बनेगी। रसोई में मौजूद मसालों की तरह वन तुलसी का उपयोग कर सकते हैं। इसकी दो-तीन पत्तियां मसालों के साथ पीसकर उपयोग कर सकते हैं।
लाभ वन तुलसी की पत्तियां इन्फ्लुएंजा के उपचार, सिरदर्द, गले की खराश, खांसी और ज्वर में लाभ देती हैं।

8. पुदीना 

Mint medicinal uses environment day
Mint medicinal uses Top medicinal plant

Mint का उपयोग स्तनपान कराने वाली माताओं द्वारा निप्पल दरार और निप्पल के दर्द को रोकने के लिए किया जा सकता है।  इसका उपयोग आम सर्दी, अपच और गैस में किया जाता है।  इसका उपयोग अल्सर को ठीक करने के लिए किया जा सकता है।  पुदीने का उपयोग दर्द निवारक के रूप में और कीट के काटने से संक्रमित त्वचा को ठंडा करने के लिए भी किया जाता है।
जब चबाया जाता है तो पुदीने की पत्तियां श्वसन स्वास्थ्य में सुधार कर सकती हैं। इसके अलावा  इसकी पत्तियां जो फाइबर में उच्च होती हैं, जब पाचन में सुधार होता है, और रक्त का संचार होता है।
 पुदीना में एक strong flavor  है जो तनाव से राहत देता है पत्ते हार्मोन स्तर को भी अनुकूलित करते हैं।

9. Aloe Vera 

Aloe vera uses, environment day theme, Aloe vera medicinal use
Aloe Vera medicinal plant

मुंहासे, सनबर्न और जले हुए घावों को ठीक करने और चिड़चिड़ी खाल को शांत करने के लिए सीधे इसके जेल का उपयोग कर सकते हैं।एलोवेरा जूस का उपयोग कब्ज से राहत देने और पाचन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए किया जाता है।बालों के विकास और चमकदार बाल, अस्थमा, पेट के अल्सर, आंत्र रोग, खुजली और सूजन के लिए एलो जेल का उपयोग वजन घटाने के उपचार के रूप में किया जाता है।


10. Methi

Methi medicinal plants uses
Methi

भारतीय घरों में सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले पौधों में से एक, मेथी के पत्ते, और बीजों का उपयोग भारत में विभिन्न प्रकार की खाद्य तैयारी में किया जाता है। सिर्फ इसके स्वाद के लिए नहीं, बल्कि यह पौधा पाचन समस्याओं का इलाज करने और dysentry और दस्त का इलाज करने में मदद करता है।  और अधिकांश शैंपू में इस्तेमाल किए जाने वाले रसायनों के विपरीत, खोपड़ी पर लगाए गए मेथी पेस्ट लंबे और चमकदार बालों के विकास और सुरक्षा में मदद करते हैं।

11. अजवायन

Ajwain top medicinal plants to grow at home environment day
Ajwain top medicinal plants


आसानी से उगाया जाने वाला पौधा और भारतीय रसोई में एक महत्वपूर्ण जड़ी बूटी है।  इसकी बहुत तेज गंध होती है और इसका उपयोग विभिन्न तरीकों से किया जाता है।  अजवाईन के बीज गुनगुने पानी के साथ लेने से  पाचन संबंधी विभिन्न समस्याओं, एसिडिटी और पेट-दर्द में मदद करता है।  हल्के गर्म   के किए गए ajwain बीज  एक पतले कपड़े या पोटली में डालकर सूंघने से सिर दर्द, खांसी और सर्दी के इलाज में मदद करता है। इसकी तीखी गंध के कारण, जब सरसों के तेल के साथ लगाया जाता है, तो यह मच्छर भगाने का काम करता है।

12. Vitex Negundo

Vitexnegundo nirgundi top medicinal uses
Vitexnegundo nirgundi


निर्गुंडी के रूप में भी जाना जाता है जो शरीर को बीमारियों से बचाता है।  यह एक जड़ी बूटी है जिसका उपयोग कई बीमारियों के इलाज में किया जाता है।  सुगंधित झाड़ी में कड़वा स्वाद, गुलाब रंग के फूल और औषधीय उद्देश्य के लिए उपयोग किए जाने वाले बहुत छोटे फल होते हैं। यह एक बहुउद्देशीय जड़ी बूटी है जिसका उपयोग तेल, मलहम के रूप में किया जाता है और इसका पाउडर रूप मौखिक प्रशासन के लिए उपयोग किया जाता है।  पौधे में anti-bacterial, anti-inflammatory and analgesic गुण होते हैं।  इसके कुछ स्वास्थ्य लाभों में सिरदर्द, पाचन समस्याओं, सूजन और गठिया (arthritis) के उपचार शामिल हैं। The plant is known for its anti-histamine properties and as a muscle reluctant.

13. Lavender

Levender puple bloom m medicinal plants uses
Lavender puple bloom


 आपके घर या बगीचे में इसका पौधा होना चाहिए क्योंकि इसमें कम रखरखाव की आवश्यकता होती है, बदले में, आपको कई लाभ प्रदान करता है।  यह एक मीठी खुशबू पैदा करता है जो आपके मूड को सकारात्मकता प्रदान करेगी। 
Lavandula angustifolia is full of essential oils which come from the distillation of the flower spikes. यह आवश्यक तेल जब उपयोग किया जाता है, तो तनाव को दूर करने की क्षमता होती है, सूजन को कम करता है, चिंता को शांत करता है, मनोदशा को बढ़ाता है, या अनिद्रा, अवसाद और बेचैनी का इलाज करता है। इसका उपयोग त्वचा देखभाल उत्पादों में सुगंध प्रदान करने और psoriasis, eczema, acne जैसी पुरानी स्थितियों के इलाज के लिए भी किया जाता है।

14. Marigold

Marigold oil medicinal plants to grow at home environment day theme
Marigold oil | medicinal uses


अपने बगीचे में जोड़ने के लिए सुंदर फूल, विभिन्न औषधीय प्रयोजनों के लिए गेंदे के फूलों का उपयोग कई शताब्दियों से किया गया है। इस पौधे से बने मरहम का उपयोग त्वचा पर चकत्ते, फफोले और मुँहासे के इलाज के लिए किया जाता है। गेंदा फूल की चाय मासिक धर्म और पेट की ऐंठन को कम करने में फायदेमंद है और पाचन तंत्र में सुधार करता है।

15. कढ़ी पत्ता – curry leaves 

Curry leaves kaddipatta medicinal plants to grow at home environment day
Curry leaves medicinal plants

कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, कैल्शियम, फॉस्फोरस, लोहा, मैग्नीशियम, जस्ता, मल्टी विटामिन और फ्लेवोनोइड जैसे पोषक तत्वों की एक भीड़ के साथ पैक, करी पत्ते स्वास्थ्य लाभ के एक आर्केड हैं।  यह बड़े पैमाने पर anaemia , मधुमेह, अपच, मोटापा, गुर्दे की समस्याओं, बालों और त्वचा की समस्याओं के उपचार में उपयोग किया जाता है।

Instagram logo

Follow us

Advertisement

Leave a Reply